व्यावसायिक शिक्षा विभाग

विभाग और पाठ्यक्रमों के बारे में

व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण राष्ट्र के शिक्षा संबंधी प्रयास का एक महत्वपूर्ण तत्व है । राष्ट्र के बदलते परिप्रेक्ष्य में व्यावसायिक शिक्षा, और अधिक प्रभावी ढंग से अपनी भूमिका निभा सके तथा भारत की बड़ी जनसंख्या/विशाल जन समूह इसका लाभ उठा सके, उसके लिए व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण के महत्वपूर्ण तत्वों को पुन: परिभाषित करने की अत्यधिक आवश्यकता है, जिससे वह इसे और अधिक सुविधापूर्ण, समकालीन, प्रासंगिक सम्मिलित और सृजनात्मक बन सकें । सरकार व्यावसायिक शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका से भली भांति अवगत है, इसीलिए सरकार इस क्षेत्र में पहले से ही बहुत से महत्वपूर्ण प्रयास कर रही है । इस समय भारत स्कूल पर आधारित व्यावसायिक शिक्षा एक केंद्रीय प्रवर्तित योजना में शामिल है जिस पर 1988 में विचार विमर्श किया गया और जिसका उद्देश्य उच्चतर शैक्षिक शिक्षा का विकल्प प्रदान करना था । एनआईओएस के व्यावसायिक शिक्षा कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य अर्थव्यवस्था के विकास के लिए व्यवस्थित और अव्यवस्थित दोनों क्षेत्रों के लिए कुशल और मध्यमवर्गीय जनशक्ति की आवश्यकता को पूरा करना है । बाजार की मांग और शिक्षार्थियों की आवश्यकता के अनुसार व्यावसायिक शिक्षा पाठ्यक्रमों का क्षेत्र पिछले वर्षों में बढ़ता रहा है । एनआईओएस के वर्तमान व्यावसायिक शिक्षा पाठ्यक्रम शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों से संबन्धित है ।

अध्ययन केंद्रों से संबंधित

विवरणिका

अन्य जानकारी एवं अधिसूचना

बैठक के कार्यवृत्त

महत्वपूर्ण लिंक